मनुष्य की सबसे बड़ी शिक्षक उसकी गलतियां होती हैं.

कितनी भी शिद्दत से रिश्ता निभाओ दिखाने वाले अपनी औक़ात दिखा ही देते है.

ईमानदारी एक महंगा शौक हैं जो हर किसी के बस की बात नहीं हैं.

किसी की निंदा करने से यह पता चलता हैं, की आपका चरित्र क्या हैं ना की उस व्यक्ति का.

आँखों में जीत के सपने हैं.. ऐसा लगता है अब ज़िन्दगी के हर पल अपने हैं.

जो कल था उसे भूलकर तो देखो, जो आज हैं उसे जीकर तो देखो, आने वाला पल खुद संवर जायेगा.

उम्र हार जाती हैं जहाँ शौक ज़िन्दा होते हैं.